Tuesday, February 15, 2011

मरम्मत मुकद्दर की कर दो मौला ..

एक खुशबू आती थी ...
मैं भटकता जाता था...
रेशमी-सी माया थी,
और मैं तकता जाता था...
जब तेरी गली आया, सच कभी नज़र आया...
मुझमें ही वो खुशबू थी जिसे तूने मिलवाया |
                           
                                   टूटके बिखरना मुझको ज़रूर आता है,
                                   वरना इबादत वाला सहूर आता है,
                                   सजदे में रहने दो, अब कहीं न जाऊंगा
                                   अब जो तुमने ठुकराया तो सँवर न पाउँगा 
|






सिर उठा के मैंने तो कितनी ख्वाहिशें कि थी...
कितने ख्वाब देखे थे, कितनी कोशिशें कि थी...
जब तू रूबरू आया ....
जब तू रूबरू आया, नज़रें न मिला पाया...
सिर झुका के इक पल में, मैंने क्या नहीं पाया |


                                    तेरे दर पे झुका हूँ, मिटा हूँ , बना हूँ ...
                                    तेरे दर पे झुका हूँ, मिटा हूँ , बना हूँ ...
                                    दरारें-दरारें हैं माथे पे मौला......
                                    मरम्मत मुकद्दर कि कर दो मौला !!!

2 comments:

Suree said...

I am not a religious man but I think the words made so much sense.BEAUTIFUL :)

Reicha Ahluwalia said...

Well even i am not religious but yeah spiritual for sure..
Thank you :)